Bridging Gaps

This blog has been translated and transcribed by Rupal Hariyaow.

– नेहा श्रीवास्तव

“एक कदम तुम बढ़ाओ और एक कदम हम बढाएं,

और इन दूरियों को कम करें ।”

हम जबसे गांव आये हैं, हमने देखा यहाँ जातिवाद बहुत है। सारे लोग अपनी-अपनी बस्ती को ही प्राथमिकता देते हैं।

वे अपने मोहल्ले (एरिया) से किसी दूसरे मोहल्ले में नहीं जाते हैं और ना ही दूसरे मोहल्ले के लोगों से बात करते हैं। हम हमेशा बेहेनचारा ग्रुप की मीटिंग ब्राह्मणो के मोहल्ले में ही करते थे और दूसरे मोहल्ले (भीलबस्ती) की औरतों को भी बुलाते थे, पर वो कभी मीटिंग में नहीं आती थी क्योंकि वो ब्राह्मणो के मोहल्ले से किसी भी व्यक्ति से बात नहीं करती थी। हम उन्हें हर बार मीटिंग में बुलाते थे पर वो कभी नहीं आती थी।

neha1

एक दिन हमने सोचा की हमे कुछ ऐसा करना चाहिए की दोनों समुदाय की औरतें आपस में बैठें और बात करें जिससे उनकी झिझक दूर हो जाए और वो आपस में बात करें।

तब हमने बेहेनचारा ग्रुप की मीटिंग पहली बार भीलबस्ती में की और यहाँ ब्राह्मण बस्ती की औरतों को भी इन्वाइट किया पर कुछ औरतों ने भीलबस्ती में जाने से मना कर दिया पर पांच औरतें हमारे साथ ब्राह्मणों की बस्ती से भीलबस्ती में गयी मीटिंग करने।

जब भीलबस्ती की औरतों ने उन्हें देखा तो वो भी ज्यादा से ज्यादा महिलाएं अपने घर से निकल कर मीटिंग में शामिल हुईं और बेहेनचारा समूह के बारे में जाना। और इस मीटिंग में हमने जतन संसथान की सुमित्रा जी को भी बुलाया था, सुमित्रा जी ने दोनों ही कम्युनिटी की औरतों को जेंडर पंचायत रिसोर्स सेन्टर (जीपीआरसी) के बारे में बताया कि कैसे महिलाएं अपनी समस्याओं को जीपीआरसी सेन्टर में ले जा सकती हैं और कैसे वो सरकारी योजना से सम्बंधित जानकारी प्राप्त कर सकती हैं।सुमित्रा जी ने जीपीआरसी सेन्टर के अनेकों लाभ महिलाओ को बताये हैं जिससे सभी महिलाएँ उनकी बातों से संतुष्ट हुईं और बहुत सारे सवाल पूछे।इससे लगा कि महिलाओं में भी जीपीआरसी सेन्टर को लेकर जागरूकता है।और उन्होंने बोलै कि अब हम मीटिंग में ज़रूर आएंगे ताकि हम भी बेहेनचारा समूह से जुड़ सकें और जीपीआरसी सेन्टर का लाभ उठा सकें।इस बेहेनचारा समूह की मीटिंग के बाद मुझे बहुत अच्छा लगा क्योंकि कहीं ना कहीं दो समुदाय की औरतों के बीच में जो स्पेस था वो दूर हुआ और वो आपस में एक दूसरे से खुल कर बात कर पाईं और उनको एक ऐसा स्थान मिल सका जहाँ वो खुल कर बात कर सकती हैं और मीटिंग कर सकती हैं।

(नेहा श्रीवास्तव प्रवाह आई.सी.एस. के साथ जनवरी – अप्रैल २०१७ के बीच वालंटियर थीं और वे जिला राजसमन्द में जतन संसथान के साथ कार्य में जुड़ी हुई थीं )

– Neha Srivastava

Take a step ahead and I’ll take one,

Let’s bridge this gap together!!

Ever since we have come to the village, we have seen that caste system holds extreme prominence here and everybody gives importance to their own mohalla (area – as colonies in Sadri are divided caste-wise). We noticed that people from one mohalla do not usually go to the other mohalla of the village nor do they interact with each other.

neha2

We would always conduct Behenchara Club’s meeting in Brahmin mohalla and invite women from other mohallas as well but women from Bhilbasti never showed up in any of the meetings, maybe because they never spoke to anyone from Brahmin mohalla. This disturbed us and hence one day we thought that we should do something that brings these women from two communities to come and sit together to talk to each other.

So, for the very first time we organized the Behenchara meeting in Bhil basti inviting women from Brahmin mohalla too but many of them refused to go the Bhil basti. However, five women from Brahmin mohalla accompanied us to the Bhil basti for the meeting. On seeing these women come, a large number of women from Bhil basti came out of their houses to participate in the meeting and to know about Behenchara.

neha3

For this meeting, we had also invited Sumitra ji from Jatan Sansthan who spoke about Gender Panchayat Resource Center (GPRC) as to how women can take their issues/problems to the center to get solutions. It was also about how they can get information on various government schemes through the center. She also highlighted the significance of having a space like GPRC in the village. All the women were convinced with whatever Sumitra ji said and asked a lot of questions to her which made us believe that somewhere they already had some awareness about the center. They also said that from now on they will definitely attend the meetings in order to stay connected with Behenchara and to also get the benefits of GPRC.

As the meeting ended, I felt really very good because somewhere there was this gap between the women of two communities which got filled today in the very first meeting which was kept in the Bhil basti. They all spoke their heart out and shared problems with each other. Today, they got a space where they can freely meet, interact and chat with each other.

(Neha Srivastava volunteered with Pravah ICS from January – April 2017 and was placed with partner organisation Jatan Sansthan in district Rajsamand.)

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Create a website or blog at WordPress.com

Up ↑

%d bloggers like this: